दिल्‍ली में ‘पैग़ाम-ए-इंक़लाब मुहिम’ का तीसरा दिन

दिल्‍ली में ‘पैग़ाम-ए-इंक़लाब मुहिम’ का तीसरा दिन

आज 28 सितंबर को भगतसिंह के जन्‍मदिवस पर नौजवान भारत सभा की उत्‍तर पश्चिमी दिल्‍ली इकाई द्वारा तीसरे दिन शाहाबाद डेयरी के विभिन्‍न ब्‍लॉकों में ‘पैग़ाम-ए-इंक़लाब मुहिम’ की शुरुआत सुबह प्रभात फेरी में क्रांतिकारी गीतों से की गई। इसके बाद अलग-अलग जगहों पर गुरुशरण सिंह के नाटक ‘हवाई गोले’ पर आधारित ‘देख फकीरे लोकतंत्र का फूहड़ नंगा नाच’ खेला गया और नुक्‍कड़ सभाएं करते हुए पर्चा वितरण किया गया।

दिल्ली की मज़दूर बस्तियों में साम्प्रदायिक तनाव भड़काने की हिन्दुत्ववादी साज़ि‍शें

दिल्ली की मज़दूर बस्तियों में साम्प्रदायिक तनाव भड़काने की हिन्दुत्ववादी साज़ि‍शें

आम जनता की एकजुटता पर साम्प्रदायिक शक्तियों के इस सुसंगठित-सुनियोजित हमले का मुकाबला करने के लिए हम सभी जनपक्षधर शक्तियों से एकजुट होने, सक्रिय होने, साम्प्रदायिक कट्टरपंथ के विरुद्ध व्यापक एवं सघन प्रचार अभियान चलाने तथा विशेष तौर पर मज़दूरों और युवाओं को तृणमूल स्तर पर संगठित करने का आह्वान करते हैं। हम अपील करते हैं कि सभी जनपक्षधर बुद्धिजीवी, मज़दूर संगठन और छात्र-युवा संगठन मिलकर दिल्ली पुलिस और सरकार पर साम्प्रदायिक गुण्डा गिरोहों के खिलाफ़ सख़्त क़दम उठाने के लिए ज़बर्दस्त जन दबाव बनायें।