नौभास, हरियाणा द्वारा इंक़लाबी प्रचार अभियान!

नौभास, हरियाणा द्वारा इंक़लाबी प्रचार अभियान!

नौजवान भारत सभा, हरियाणा ने शहीद-ए-आज़म भगतसिंह के 108वें जन्म दिवस के अवसर पर विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया. नौभास हरियाणा के संयोजक रमेश खटकड़ ने बताया कि उक्त कार्यक्रमों की शुरुआत 26 सितम्बर से चौशाला गाँव (कलायत, कैथल) में क्रान्तिकारी प्रचार अभियान के द्वारा की गयी. गाँव में क्रान्तिकारी प्रचार के दौरान नुक्कड़ सभाएँ करते हुए व्यापक परचा वितरण किया गया. 27 सितम्बर को सुबह कलायत (कैथल) में नुक्कड़ सभाएँ करते हुए प्रचार अभियान चलाया गया. वक्ताओं ने अपनी बात में जनता के सामने मौजूदा पूँजीवादी व्यवस्था का भण्डाफोड़…

‘पैग़ाम-ए-इंक़लाब मुहिम’ के तहत उत्‍तर-पश्चिमी दिल्‍ली की नौजवान भारत सभा की इकाई ने आज दूसरे दिन बवाना की जे जे कालोनी में लोगों के बीच नुक्‍कड़ सभाएं कीं व पर्चा वितरण किया।

‘पैग़ाम-ए-इंक़लाब मुहिम’ के तहत उत्‍तर-पश्चिमी दिल्‍ली की नौजवान भारत सभा की इकाई ने आज दूसरे दिन बवाना की जे जे कालोनी में लोगों के बीच नुक्‍कड़ सभाएं कीं व पर्चा वितरण किया।

नौजवान भारत सभा, उत्‍तर-पश्चिमी दिल्‍ली की तरफ से भगतसिंह के जन्‍मदिवस 28 सितंबर के अवसर पर एक सप्‍ताह तक चलाए जाने वाले ‘पैग़ाम-ए-इंक़लाब मुहिम’ की आज शुरुआत हुई।

नौजवान भारत सभा, उत्‍तर-पश्चिमी दिल्‍ली की तरफ से भगतसिंह के जन्‍मदिवस 28 सितंबर के अवसर पर एक सप्‍ताह तक चलाए जाने वाले ‘पैग़ाम-ए-इंक़लाब मुहिम’ की आज शुरुआत हुई।

आज सुबह सेक्‍टर 27, रोहिणी की बस्‍ती में लोगों के बीच नुक्‍कड़ सभा व पर्चा वितरण किया गया। शाम को सूरज पार्क व राजा विहार में सभा करके भगतसिंह के विचारों से लोगों को परिचित कराया गया कि भगतसिंह का मकसद केवल गोरी हुकूमत को ही खत्‍म करना नहीं था बल्कि अन्‍याय-लूट-शोषण पर टिकी पूरी पूंजीवादी व्‍यवस्‍था का ही ध्‍वंस करना था, जिससे एक समतामूलक समाज की स्‍थापना की जा सके। ‘पैग़ाम-ए-इंक़लाब मुहिम’ में वितरित किये जा रहे पर्चे के लिए नीचे दिए गए लिंक पर जाएं – Bhagat Singh…

शहीदों के जो ख्वाब अधूरे, इसी सदी में होंगे पूरे! इसी सदी में नए वेग से, परिवर्तन का ज्वार उठेगा!!

शहीदों के जो ख्वाब अधूरे, इसी सदी में होंगे पूरे! इसी सदी में नए वेग से, परिवर्तन का ज्वार उठेगा!!

नौजवान भारत सभा और दिशा छात्र संगठन द्वारा शहीदे आज़म भगतसिंह के 108वें जन्मदिवस पर आयोजित विचार यात्रा के दौरान इलाहाबाद, गोरखपुर, गाज़ीपुर, मऊ, आज़मगढ़ और जौनपुर में बाँटा जानेवाला परचा J_28 sep2015 gorakhpurallahaba final

‘नौजवान भारत सभा’ की अाशंकाओं को सही साबित करते हुए आज होलम्‍बी कलां मेट्रो विहार फेस 2 में संघी गुंडा गिरोहों ने सांप्रदायिक माहौल को बिगाड़ने की पूरी कोशिश की

‘नौजवान भारत सभा’ की अाशंकाओं को सही साबित करते हुए आज होलम्‍बी कलां मेट्रो विहार फेस 2 में संघी गुंडा गिरोहों ने सांप्रदायिक माहौल को बिगाड़ने की पूरी कोशिश की

‘नौजवान भारत सभा’ की अाशंकाओं को सही साबित करते हुए आज होलम्‍बी कलां मेट्रो विहार फेस 2 में संघी गुंडा गिरोहों ने सांप्रदायिक माहौल को बिगाड़ने की पूरी कोशिश की, ल‍ेकिन वे कामयाब नहीं हो सके। आज होलम्‍बी कलां मेट्रो विहार फेस 2 में ‘बिलाल मस्जिद’ पर कुर्बानी की जगह बनाने के लिए लग रहे टेंट पर सुबह से ही बाहर से आए 40-50 लड़कों ने विरोध करना शुरू कर दिया। विश्‍वस्‍त सूत्रों से यह पता चला कि इन्‍होंने 24 तारीख की रात में मुंहामुंही प्रचार किया था कि 25…

नौजवान भारत सभा द्वारा जामिया नगर और उत्तर-पश्चिमी दिल्ली के इलाकों में शहीदेआज़म भगतसिंह के जन्म की 108वीं वर्षगाँठ (28 सितम्बर) के अवसर पर एक सप्ताह का पैग़ाम-ए-इंक़लाब मुहिम का आयोजन

नौजवान भारत सभा द्वारा जामिया नगर और उत्तर-पश्चिमी दिल्ली के इलाकों में शहीदेआज़म भगतसिंह के जन्म की 108वीं वर्षगाँठ (28 सितम्बर) के अवसर पर एक सप्ताह का पैग़ाम-ए-इंक़लाब मुहिम का आयोजन

‘शहीद भगतसिंह पुस्तकालय’ (मुंबई) का 28 सितम्बर को उद्धाटन

‘शहीद भगतसिंह पुस्तकालय’ (मुंबई) का 28 सितम्बर को उद्धाटन

शहीद भगत सिंह के जन्मदिवस के अवसर पर ‘शहीद भगतसिंह पुस्तकालय’ का 28 सितम्बर को उद्धाटन साथियो भारत की आज़ादी के लिए मात्र 24 साल की उम्र में शहीद होने वाले भगतसिंह का 28 सितम्बर को 108वां जन्म दिवस है। उनकी शहादत को 84 वर्ष बीत चुके हैं पर आज भी देश की मेहनतकश जनता के हालात को देखकर कहा जा सकता है कि जिस सपने के लिए उन्‍होंने जान दी थी वह अधूरा है। आज भी देश की 80 फीसदी जनता ग़रीबी का दंश झेल रही है। शिक्षा, स्‍वास्‍थ्‍य…

The Hindutva conspiracies of fomenting communal tension in Delhi

The Hindutva conspiracies of fomenting communal tension in Delhi

Continued attempts of Hindutva fascists of fomenting communal tension in the workers’ colonies of North-West Delhi (Investigation report of Naujawan Bharat Sabha, North-West Delhi) 1.  Introduction In recent months the Hindutva fundamentalist forces are involved in fomenting communal tensions and paving the way for riots in the workers’ colonies of North-West Delhi in a very systematic and conspiratorial manner. There has been a surge in the number of RSS shakhas in the parks and on the vacant land of DDA in this area. At the same time the activities of…

साम्प्रदायिक फ़ासीवादियों द्वारा जनता को बाँटने की साज़िश को नाकाम करो!

साम्प्रदायिक फ़ासीवादियों द्वारा जनता को बाँटने की साज़िश को नाकाम करो!

क्या आपने कभी सोचा है कि जिस समय देश में जनता बढ़ती कीमतों, बेकारी और बदहाली से तंगहाल हो, अचानक उसी समय ‘लव जिहाद’, ‘घर वापसी’ और ‘हिन्दू राष्ट्र निर्माण’ का लुकमा क्यों उछाला जाता है जब चुनाव नज़दीक हों तभी अचानक दंगे क्यों होने लगते हैं जब जनता महँगाई और भ्रष्टाचार की मार से बदहाल होती है उसी समय साम्प्रदायिक तनाव क्यों भड़क जाता है क्या यह केवल संयोग है क्या आप आज़ादी के बाद कोई ऐसा दंगा याद कर सकते हैं जिसमें तोगड़िया, ओवैसी, सिंघल या योगी आदित्यनाथ जैसे लोग मारे जाते हैं क्या दंगों में कभी किसी कट्टरपंथी नेता का घर जलता है नहीं! दंगों में हमेशा हमारे और आपके जैसे आम लोग मारे जाते हैं, बेघर और यतीम होते हैं! जी हाँ! हमारे और आपके जैसे लोग जो अपने बच्चों को एक बेहतर ज़िन्दगी देने की जद्दोजहद में खटते रहते हैं! जिनके खाने की प्लेटों से एक-एक करके सब्ज़ी, दाल ग़ायब हो रहे हैं! जिनके नौजवान बेटे और बेटियाँ सड़कों पर बेरोज़गार घूम रहे हैं!

People in North-East Delhi give Befitting Rebuttal to Sangh Parivar’s Malicious Communal Fascist Designs

People in North-East Delhi give Befitting Rebuttal to Sangh Parivar’s Malicious Communal Fascist Designs

People of Khajoori thwarted the communal fascist designs of Sangh Parivar and assembled in large numbers at the venue,which the RSS men have been tying to monopolise of late. Hundreds of people, including women and children, were present throughout the programme braving the severe cold. The thought behind the programme was to remember the legacy of people’s unity our revolutionaries have left behind and spread their message among the people so that one doesn’t get swayed by the present fascist communal propaganda of dividing people on religious lines.