नौभास का प्रथम जिलास्तरीय सम्मेलन (जिला-सिरसा)

नौभास का प्रथम जिलास्तरीय सम्मेलन (जिला-सिरसा)

दिनाँक 16 अक्तूबर, दिन रविवार को नौजवान भारत सभा, जिला सिरसा द्वारा पंजाब पैलेस, सिरसा में अपना प्रथम जिलास्तरीय सम्मेलन किया गया। क्रांतिकारी लहर के शहीदों को एक मिनट का मौन रखकर श्रद्धांजलि देने के बाद सम्मेलन की बाकयदा शुरुआत की गई। सम्मेलन में जिले की नई नेतृत्व कमेटी का चुनाव किया गया तथा पदाधिकारी चुने गए। नौ.भा.स की जिला सिरसा की अलग-अलग ईकाईयों में से कुल 80 प्रतिनिधि उपस्थित थे। इसी मौके पावेल (कालांवाली), दिलबाग सिंह(नकोड़ा), वकील सिंह (रोड़ी), सतपाल सिंह (औढाँ) तथा अमनदीप सिंह (संतनगर) को नई जिला कमेटी के सदस्यों के तौर पर चुना गया। जिला कमेटी ने सेक्रेटरी की भूमिका पावेल तथा कोषाध्यक्ष की भूमिका अमनदीप को सौंपी। इस मौके प्रो. कुलदीप सिंह (पंजाबी यूनिवर्सिटी, पटियाला), डॉ. सुखदेव हुंदल (शहीद भगत सिंह स्कूल ऑफ सोशल साइंसेज), मास्टर अजायब जलालआना (तर्कशील सोसाइटी कालांवाली), मास्टर दविंदर सिंह (पंजाबी भाषा व् अध्यापक कल्याण संगठन) तथा छिन्दरपाल (जनरल सेक्रेटरी, नौभास) मुख्यतिथि के तौर पर शामिल हुए। इसी मौके उदघाटन के दौरान भाषण देते हुए प्रो. कुलदीप ने देश व् विश्व की सामाजिक-आर्थिक हालातों की विस्तारपूर्वक चर्चा की। उन्होंने कहा कि विश्व आज ज्वालामुखी के मुँह पर खड़ा है, जो कभी भी फट सकता है। विश्व-पूँजीवाद आज पहले से ज्यादा हिंसक व् मुनाफाखोर हो चुका है इसलिए इसको पलटाकर न्याय व् समानता के ढाँचे पर निर्मित समाज का निर्माण करना नौजवानों के लिए एक बड़ी चुनौती है। उन्होंने भारतीय समाज में फ़ासीवादी चुनौती की भी बात की। उन्होंने नौभास के साथियों को प्रथम सम्मेलन करने के पड़ाव में पहुँचने की बधाई दी। इस मौके पर नौभास की अस्थाई पुरानी जिला कमेटी की तरफ से साथी पावेल ने पिछले तीन महीनों से सिरसा जिले में हुए कार्यों की रिपोर्ट पेश की, जिस पर चर्चा के बाद अमनदीप ने वित्तीय रिपोर्ट प्रतिनिधियों के आगे पेश की। इस मौके पर पहुंचे मुख्यतिथियों ने अपने-अपने संगठनों की तरफ से नौभास जिला सिरसा के प्रथम सम्मेलन के मौके पर बधाई संदेश पढ़े तथा भविष्य की चुनौतियों के प्रति अपनी बात रखी। सम्मेलन में नौभास के जनरल सेक्रेटरी छिन्दरपाल ने केंद्रीय परिषद की तरफ से नई चुनी गई कमेटी को बधाई दी तथा कुछ प्रस्ताव पढ़कर सुनाये, जिनको सम्मेलन में उपस्थित प्रतिनिधियों ने हाथ खड़े कर अपनी सहमति देकर पास किया। प्रस्तावों में देश में बढ़ रही दलित विरोधी कारवाईयाँ, झारखण्ड के हजारीबाग में पुलिस द्वारा किसानों की गई प्रताड़ना, वृदांवन में नास्तिक सम्मेलन पर साम्प्रदायिक ताकतों द्वारा दखलंदाज़ी व् भारत-पाकिस्तान युद्ध का डर खड़ा कर लोगों को उनके बुनियादी मसलों पर एक होने से रोकने की करवाई की नौभास द्वारा भर्त्सना की गई। और होंडा मज़दूरों द्वारा अधिकारों के लिए किये जा रहे संघर्ष का समर्थन किया व् कश्मीर में पिछले तीन महीने से भी ज्यादा समय से कश्मीरी लोगों पर भारतीय फ़ौज द्वारा किये जा रहे जुल्म की भर्त्सना की गई तथा कश्मीरी लोगों के जनवादी अधिकार दुरुस्त करने की माँग की गई। इसी मौके पर नौभास के साथियों द्वारा क्रांतिकारी गीत व् कविताएं पेश की गई। सम्मेलन की समाप्ति के बाद सिरसा शहर में नारे लगाते हुए पैदल मार्च निकाला गया,मार्च की समाप्ति पर नौभास कमेटी सिरसा के सेक्रेटरी पावेल ने समूह को संबोधित करते हुए मौजूदा चुनौतियों का सामना करने के लिए नौजवानों को और ज्यादा दृढ़ता से कार्य करने की अपील की और गूंजते हुए नारों के साथ सम्मेलन की रस्मी समाप्ति की।

जारीकर्त्ता:-
पावेल
सेक्रेटरी, नौभास जिला सिरसा
86078-89902

2016-10-16-hr-nbs-sirsa-sammelan-12016-10-16-hr-nbs-sirsa-sammelan-2 2016-10-16-hr-nbs-sirsa-sammelan-12 2016-10-16-hr-nbs-sirsa-sammelan-11 2016-10-16-hr-nbs-sirsa-sammelan-10 2016-10-16-hr-nbs-sirsa-sammelan-9 2016-10-16-hr-nbs-sirsa-sammelan-8 2016-10-16-hr-nbs-sirsa-sammelan-7 2016-10-16-hr-nbs-sirsa-sammelan-6 2016-10-16-hr-nbs-sirsa-sammelan-5 2016-10-16-hr-nbs-sirsa-sammelan-4 2016-10-16-hr-nbs-sirsa-sammelan-3

Related posts

Leave a Comment

seven + five =